यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
बुधवार, 02 दिसम्बर 2015 16:27

वरिष्ठ नेता के पत्र का मूल उद्देश्य, दाइशी इस्लाम और वास्तविक इस्लाम के बीच अंतर करना है

वरिष्ठ नेता के पत्र का मूल उद्देश्य, दाइशी इस्लाम और वास्तविक इस्लाम के बीच अंतर करना है

ईरान के संसद सभापति के सलाहकार ने कहा है कि यूरोपीय युवाओं के नाम वरिष्ठ नेता के पत्र का उद्देश्य, वास्तविक इस्लाम को दाइशी इस्लाम से अलग करना है।


हुसैन शेख़ुल इस्लाम ने कहा कि इस्लाम को बदनाम करने की पश्चिमी शक्तियों की साज़िश से आज हर कोई अवगत है।

तकफ़ीरी आतंकवादी गुट दाइश भी हिंसा और आतंकवाद द्वारा इस्लाम की तस्वीर ख़राब करने में पश्चिम की सेवा कर रहा है और यूरोपीय मुस्लिम युवाओं को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है।

ऐसी परिस्थितियों में ईरान की इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता ने यूरोपीय युवकों के सामने क्षेत्रीय परिस्थितियों की वास्तविक तस्वीर पेश की है।

वरिष्ठ नेता के इस पत्र का एक अन्य उद्देश्य विश्व की विभिन्न सभ्यताओं के बीच संवाद शुरू करने के लिए भूमि प्रशस्त करना है।

शेख़ुल इस्लाम का कहना था कि पाखंडी सरकारों और ज़ायोनी सरकार से संवाद के बजाए प्रत्यक्ष रूप से राष्ट्रों से संवाद की नीति अपनाना वरिष्ठ नेता के पत्र का मूल उद्देश्य है। msm

Add comment


Security code
Refresh