समाचार
20वीं शताब्दी विशेषकर उसके अंतिम पचास वर्षों में जो सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन हुए वे इस बात के सूचक हैं कि उस काल में कुछ देशों में विभिन्न क्रांतियां व  …
हर क्रांति में जब लोग अन्याय, अत्याचार और तानाशाही सरकारों से थक व ऊब जाते हैं तो उसके विरुद्ध उठ जाते हैं और संघर्ष के उतार- चढ़ाव के बाद अत्याचारी …
इन दिनों इस्लामी क्रांति की सफलता की 37वीं वर्षगांठ चल रही है। इस्लामी क्रांति ने अपने समय में बहुत से राजनैतिक समीकरणों को बदल दिया है। इस क्रांति ने पूरी …
ईरान में इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैह के नेतृत्व में इस्लामी क्रान्ति की सफलता और मूल इस्लामी शिक्षाओं के आधार पर सरकार के गठन ने राजनीति की दुनिया में नए अध्याय …
ईरान की इस्लामी क्रांति की वर्षगाठ निकट है।  प्रतिवर्ष 11 फरवरी को इस्लामी क्रांति की वर्षगाठ मनाई जाती है।  ईरान में आने वाली इस्लामी क्रांति की तुलना, विगत की क्रांतियों …
232 हिजरी क़मरी में आज ही के दिन इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम का पवित्र नगर मदीना में जन्म हुआ। इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम की कुल आयु 28 वर्ष थी जिसका …
17 रबीउल अव्वल इतिहास में एक ऐसी तारीख़ के रूप में दर्ज है, जिसमें मानवीय इतिहास की दो ऐसी महान हस्तियों ने जन्म लिया, जिनका मानवता के मार्गदर्शन में अमूल्य …
शनिवार, 26 दिसम्बर 2015 12:07

एकता सप्ताह

सुन्नी मुसलमान 12 रबीउल अव्वल जबकि शीया मुसलमान 17 रबीउल अव्वल को पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम का जन्म दिवस मनाते हैं। वर्षों पहले …
आठ रबीउल अव्वल सन 260 हिजरी क़मरी को अभी सूरज निकला भी नहीं था कि सच्चाई और मार्गदर्शन के सूरज इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम शहीद हो गये जिससे पूरा इस्लामी …
पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा अपने स्वर्गवास से पहले इस्लाम को परिपूर्ण धर्म के रूप में मानवता के सामने पेश कर चुके थे।   उन्होंने कहा था कि मुझको नैतिकता को …
मंगलवार, 01 दिसम्बर 2015 16:03

इमाम हुसैन (अ) का चेहलुम

  करबला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और उनके 72 साथियों की शहादत के चालीसवें दिन को अरबईन या चेहलुम कहा जाता है।  इस दुखद अवसर पर पूरे विश्व में विशेषकर …
  वर्तमान समय में महिलाओं के साथ हिंसा एक बहुत बड़ी समस्या है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने 25 नवम्बर को महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा की रोक थाम का विश्व दिवस …
ईश्वरीय पैग़म्बर और इमाम, बंदों पर ईश्वर की कृपा की निशानियां हैं। वे अज्ञानता के अधंकार में प्रकाशमान दीपक की तरह चमके और इस मार्ग में उन्होंने बहुत सी मुसीबतें …
इमाम ज़ैनुल आबेदीन अलैहिस्सलाम ने कर्बला की महान घटना के बाद लोगों के मार्गदर्शन का ईश्वरीय दायित्व संभाला। सज्जाद, इमाम ज़ैनुल आबेदीन अलैहिस्सलाम को एक प्रसिद्ध उपाधि थी। महान ईश्वर …
बुधवार, 04 नवम्बर 2015 12:47

13 आबान

13 आबान बराबर 4 नवम्बर, ईरान के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन ईरान के इतिहास में अत्याचारी शाही शासन के ख़िलाफ़ 3 महत्वपूर्ण घटनाएं घटित हुईं। इसी …
बुधवार, 30 सितम्बर 2015 17:20

ईदे ग़दीर

जिस वक़्त पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम के पास ईश्वरीय संदेश वही लाने वाले फ़रिश्ते हज़रत जिबरईल मायदा सूरे की आयत नंबर 67 लेकर उतेर कि …
पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम का प्रसिद्ध कथन है कि मैं तुम्हारे मध्य दो मूल्यवान चीज़ें छोड़कर जा रहा हूं एक क़ुरआन और दूसरे अपने अहलेबैत। जब …
बृहस्पतिवार, 24 सितम्बर 2015 00:00

ईदुल अज़हा

हिजरी क़मरी वर्ष के 12वें महीने ज़िलहिज्जा की दस तारीख़ ईदुल अज़हा की तारीख़ है। यह उन इंसानों के हर्षो उल्लास का दिन है जिनके दिल बंदगी और उपासना की …
बुधवार, 23 सितम्बर 2015 14:24

अरफ़ा दिवस

महान ईश्वर ने पवित्र क़ुरआन में कहा है कि मुझे पुकारो ताकि मैं तुम्हारी दुआओं को स्वीकार करूं।“ महान व सर्वसमर्थ ईश्वर ने अपने समस्त बंदों से कहा है कि …
Page 1 of 15