यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
सोमवार, 11 अप्रैल 2016 19:23

उत्तर कोरिया का वियना बैठक में बुलावा

उत्तर कोरिया का वियना बैठक में बुलावा

सीटीबीटी के क्रियान्वयन आयोग के सचिव लासिना ज़र्बो ने उत्तर कोरिया को वियना में इस आयोग की 13 अप्रैल की प्रस्तावित बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया है।

लासिना ज़र्बो ने कहा कि एक पक्षीय रूप से निर्णय नहीं करना चाहिए बल्कि उत्तर कोरिया की चिंताओं को भी सुनना चाहिए।

उन्होंने कहा कि राजनैतिक बातचीत और ज़िम्मेदारियों में उत्तर कोरिया को शामिल करके कोई हल निकाला जा सकता है।

2008 से यह पहली बार है जब उत्तर कोरिया को परमाणु मामले की एक उच्चस्तरीय अंतर्राष्ट्रीय बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है।

अभी तक उत्तर कोरिया की ओर से इस निमंत्रण पर कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आयी है लेकिन अगर उसने भाग लिया तो इसका यह अर्थ होगा कि सबसे ज़्यादा अलग थलग पड़ चुकी सरकारें भी स्थिति से लाभ उठा सकती हैं और इस दायरे से बाहर निकल सकती हैं।

राजनैतिक टीकाकारों का मानना है कि पश्चिमी जगत ख़ास तौर पर अमरीका, यूरोपीय संघ के 28 सदस्य देश और दक्षिण कोरिया, जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश, उत्तर कोरिया की निरंतर जारी परमाणु गतिविधियों के संबंध में चुप नहीं बैठेंगे किन्तु जैसा कि सीटीबीटी के क्रियान्वयन आयोग के सचिव लासिना ज़र्बो ने कहा कि एकपक्षीय रूप से फ़ैसला नहीं करना चाहिए बल्कि उत्तर कोरिया की चिंताओं व समस्याओं पर भी ध्यान दिए जाने की ज़रूरत है।

परमाणु मामले के इस अधिकारी की नज़र में सबसे अच्छा मार्ग जिस पर विश्व समुदाय को विश्वास है वह बातचीत व मध्यमार्ग है क्योंकि इससे हट कर कोई भी मार्ग किसी के हित में नहीं है।

कुछ पर्यवेक्षकों का यह मानना है कि अगर अमरीका का कोरिया प्रायद्वीप के क्षेत्र में स्थिरता, संतुलन व शांति स्थापित करने का इरादा होता तो एक बार ही सही वह उत्तर कोरिया के परमाणु विषय के हल के लिए कोई समाधान पेश करता।(MAQ/T)

 

Media

Add comment


Security code
Refresh