यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
रविवार, 10 अप्रैल 2016 20:13

अमेरिकी विदेशमंत्री की अफ़ग़ान यात्रा शांति प्रक्रिया का समर्थन है

अमेरिकी विदेशमंत्री की अफ़ग़ान यात्रा शांति प्रक्रिया का समर्थन है

अमेरिकी विदेशमंत्री जॉन केरी की अफ़ग़ानिस्तान की औचक यात्रा पर संचार माध्यमों में प्रक्रिया जताई गयी है।

अफ़ग़ानिस्तान से प्रकाशित होने वाले संचार माध्यमों ने जान केरी की काबुल यात्रा को अफ़ग़ानिस्तान की शांति प्रक्रिया से संबंधित बताया है। साथ ही इन संचार माध्यमों ने जान केरी की यात्रा को अफ़ग़ानिस्तान की शांति प्रक्रिया और राष्ट्रीय एकता की सरकार का एक प्रकार का समर्थन बताया है। अफ़ग़ानिस्तान के संचार जगत का मानना है कि इस देश में प्रभाव अधिक बढ़ाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक प्रतिस्पर्धा आरंभ हो चुकी है और जान केरी की यह यात्रा भी इस प्रतिस्पर्धा से असंबंधित नहीं है। अभी हाल ही में अफ़ग़ानिस्तान में आतंकवादी गुट अलक़ायदा के अधिक सक्रिय हो जाने के बाद रूस और चीन भी अफ़ग़ानिस्तान में अधिक सक्रिय हो गये हैं। इस प्रकार से मॉस्को ने अभी हाल में ही हथियारों की एक बड़ी खेप काबुल सरकार को दी है ताकि आतंकवादियों के मुकाबले में इस देश की सेना मज़बूत स्थिति में रहे। चीन भी अफ़ग़ानिस्तान की शांति- प्रक्रिया में तालेबान के भाग लेने हेतु सक्रिय हो गया है। इस आधार पर अफ़ग़ानिस्तान के संचार माध्यमों का मानना है कि इस देश में नई अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा आरंभ हो गयी है। इस मध्य प्रतीत यह हो रहा है कि जिस चीज़ ने अमेरिकी विदेशमंत्री को चिंतित कर दिया है वह अफ़ग़ानिस्तान की राष्ट्रीय सरकार के कमज़ोर होने या गिर जाने का ख़तरा है। काबुल यात्रा के दौरान उनके उस बयान को इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिये जिसमें उन्होंने बल देकर कहा था कि अशरफ़ ग़नी की सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। बहरहाल राजनीतिक टीकाकरों का मानना है कि अमेरिका काबुल सरकार के समर्थन के लिए जो भी करे परंतु अफगान जनता इस देश की समस्त कठिनाइयों व संकटों के लिए अमेरिका को ज़िम्मेदार मानती है। MM

 

Media

Add comment


Security code
Refresh