यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
शनिवार, 19 मार्च 2016 16:20

लेबनान के ख़िलाफ़ इस्राईल की भड़काउ गतिविधियां

लेबनान के ख़िलाफ़ इस्राईल की भड़काउ गतिविधियां

लेबनान के ख़िलाफ़ ज़ायोनी शासन की ओर से जासूसी के नए चरण का पर्दाफ़ाश होने के बाद, लेबनान की संसद के एक वरिष्ठ सदस्य हसन फ़ज़्लुल्लाह ने लेबनान के संचार क्षेत्र में ज़ायोनियों की पैठ को इस देश की राष्ट्रीय सुरक्षा व संप्रभुता पर अतिक्रमण बताया और इससे निपटने की मांग की।

 

हसन फ़ज़्लुल्लाह ने गुरुवार को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वह इस्राईल के इस अतिक्रमण को रोकने के लिए आगे आए।

 

ज़ायोनी शासन ने लेबनान से मिली अतिग्रहित फ़िलिस्तीन की पूरी सीमा पर बातचीत टेप करने वाले उपकरण लगा रखे हैं और लेबनानी नागरिकों व सैनिकों की सभी गतिविधियों की निगरानी करता है कि जो अंतर्राष्ट्रीय क़ानून का उल्लंघन है।

 

ऐसी स्थिति में पिछले एक साल में दक्षिणी लेबनान में ज़ायोनी शासन के जासूसी उपकरणों का अनेक कई बार पता चला है कि यह शासन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव नंबर 1701 की अनदेखी करते हुए लेबनान की हवाई, समुद्री और वायु सीमाओं का लगभग हर दिन उल्लंघन करता है।

 

लेबनान में पिछले 6 साल में, इस्राईल के जासूसी संगठन मोसाद के लिए काम करने के आरोप में 100 से ज़्यादा लोग पकड़े गए हैं।

 

इसी परिप्रेक्ष्य में लेबनान के राजनैतिक मंच के दो प्रभावी धड़े हिज़्बुल्लाह और अलमुस्तक़बल ने पिछले मंगलवार को बैरूत में इस देश के सैन्य व सुरक्षा तंत्र के अभियान का समर्थन करते हुए उन तत्वों से निपटने पर बल दिया जिनसे लेबनान की सुरक्षा ख़तरे में पड़ सकती है।

 

दर अस्ल लेबनान में राष्ट्रपति के पद पर किसी की नियुक्ति न हो पाना, सेवा के क्षेत्र में सरकार के क्रियाकलाप को लेकर जनता का प्रदर्शन और आतंकवादी गुटों की गतिविधियों के कारण इस समय लेबनान की स्थिति संवेदनशील है जिससे ज़ायोनी शासन फ़ायदा उठाने की कोशिश कर रहा है। (MAQ/T)

Media

Add comment


Security code
Refresh