यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
सपनों का देश ईरान
शनिवार, 10 नवम्बर 2012 18:28

प्रकृति का संगम, रश्त

जंगल, वर्षा, चावल, रेशम, उफनती नदियों, बैगनी फूलों के विशाल स्थान, बसंती गुलाब, कमल के फूल, मुर्ग़ाबियों, हंसों, और विविधतापूर्ण वनस्पतियों जैसी विशेषताओं से संपन्न प्रांत का नाम गीलान है। …
बृहस्पतिवार, 11 अक्तूबर 2012 16:56

गीलान प्रांत, हस्तकलाओं का केन्द्र

अधिकांश पुरातन वेत्ताओं और शोधकर्ताओ का मानना है कि मिट्टी के बर्तनों को बनाने की कला की जन्म स्थली ईरान है और यहीं से यह कला अन्य देशों में फैली …
मंगलवार, 25 सितम्बर 2012 19:02

क़िला नौख़रक़ान गांव

आज हम सेमनान प्रांत के प्राचीन गावों में से एक क़िला नौख़रक़ान का परिचय कराएंगे। यह वह गांव है जहां चौथी और पांचवी हिजरी क़मरी के महान आध्यात्मिक गुरु शैख़ …
मंगलवार, 25 सितम्बर 2012 18:10

गचसर और कलवान गांव

"असारा" तेहरान के निकट करज के उत्तर में स्थित क्षेत्र है जिसमें ५६ गांव हैं और इसकी जनसंख्या लगभग ३० हज़ार है। मूल्यवान एतिहासिक एवं प्राकृतिक अवशेषों ने इस क्षेत्र …
रूदबार क़स्रान, तेहरान के आस -पास के पर्वतीय क्षेत्रों में अच्छी व लुभावनी जलवायु वाला क्षेत्र है। वास्तव में रूदबार क़स्रान तेहरान के उत्तर में स्थित शमीरान उपनगर का एक …
बृहस्पतिवार, 06 सितम्बर 2012 19:50

गीलिअर्द एवं बारीकान गांव

तालेक़ान क्षेत्र ईरान के पर्वतीय और अद्वितीय घाटियों वाला क्षेत्र है जो पश्चिमी अलबुर्ज़ क्षेत्र में स्थित है। पूरब से पश्चिम तक तालेक़ान का पूरे क्षेत्र में शाहरूद नामक नदी …
उरोमिया, पश्चिमी आज़रबाइजान का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो अपने इतिहासिक और प्राकृतिक आकर्षणों के कारण सदा ही पर्यटकों को लुभाता है। उरोमिया झील नेशनल पार्क, क्षेत्र के विभिन्न औपचारिक …
माकू पश्चिमी आज़रबाइजान प्रांत का एक सीमावर्ती नगर है। यह पर्वतीय नगर है और इसके मध्य विभिन्न पर्वत हैं। इस नगर के केन्द्र में रहने वाले लोग तुर्क भाषी हैं …
पश्चिमोत्तरी ईरान के अंत में बहुत ही अच्छी जलवायु से समृद्ध पश्चिमी आज़रबाइजान प्रांत है कि जिसके पड़ोस में आज़रबाइजान गणराज्य, तुर्की और इराक़ जैसे देश स्थित हैं। इस प्रांत …
पूर्वी आज़रबाइजान प्रांत ईरान के हस्तकला उद्योग के केन्द्रों में गिना जाता है। इस प्रांत के महत्वपूर्ण हस्तकला उद्योगों में क़ालीन की बुनाई, दरी की बुनाई, ख़ातम, ओअर्रक़, मुनब्बत, टोकरी, …
पूर्वी आज़रबाइजान का सराब नगर उत्तर, पूर्व और दक्षिण से सबलान एवं बुज़क़ूश पर्वतांचलों से और ईलानजूक़ की उंचाइयों से घिरा हुआ है। इस प्रकार से सराब नगर एक घिरे …
मराग़े नगर पूर्वी आज़रबाइजान के दक्षिण-पश्चिम और तबरीज़ नगर के दक्षिण में उरूमिये झील व सहंद नामक ज्वालामुखीय पहाड़ के बीच में स्थित है। यह नगर अपेक्षाकृत विस्तृत व उपजाउ …
प्राचीनकाल की धरोहरों को पहचनवाने के लिए संग्रहालयों को एक महत्वपूर्ण माध्यम माना जाता है और वर्तमान काल में मनुष्य के सांस्कृतिक जीवन में संग्रहालय, महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। १४ …
मंगलवार, 27 मार्च 2012 18:19

चहारमहाल व बख़तियारी-4

चहार महाल व बख़्तियारी प्रांत में चुग़ाख़ोर, गंदमान, अलियाबाद और सोलक़ान नामक चार तालाब ने पर्यावरण और एकोटूरिज़्म की दृष्टि से इस क्षेत्र को विशेष स्थिति उपहार में दी है। …
मंगलवार, 27 मार्च 2012 18:18

चहारमहाल व बखतियारी-3

चहार महाल व बख्तियारी प्रांत अद्वितीय प्राकृतिक आकर्षणों के साथ ज़ाग्रोस पर्वत माला के मध्य ऊंचाई पर स्थित है। फ्रांसीसी पर्यटक हेनरी रेने डालमानी ने अपनी किताब "खुरासान से बख्तियारी …
मंगलवार, 27 मार्च 2012 18:16

चहारमहाल व बख़तियारी-1

चहारमहाल व बख़्तियारी प्रांत में प्रचुर जल, उपजाऊ भूमि, उचित एवं मनोहर जलवायु, प्राकृतिक हिमखण्ड, झरनों, विभिन्न झीलों और सुन्दर सरोवरों की उपस्थिति तथा बलूत के घने जंगलों जैसी सुन्दर …
मंगलवार, 27 मार्च 2012 17:29

चहारमहाल व बख़तियारी-2

चार महाल व बख़तियारी प्रांत में बख़तियारी क़बीला अपनी विशेष जीवन शैली व रीति रिवाजों के कारण इस क्षेत्र के अद्वितीय आकर्षणों में गिना जाता है और इस क़बीले की …
मंगलवार, 13 मार्च 2012 17:54

क़िले नौख़रक़ान गांव

यह वह गांव है जहां चौथी और पांचवी शताब्दी हिजरी क़मरी के महान आध्यात्मिक गुरु शैख़ अबुल हसन ख़रक़ानी का मज़ार है जिससे इस गांव की ऐतिहासिक पृष्ठिभूमि का पता …
मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012 18:44

कुर्दिस्तान

कुर्दिस्तान प्रांत ईरान की उस धरती का एक भाग है जिस पर माद जाति का शासन रहा है। कुर्द समुदाय का संबंध आर्य जाति से है जो लगभग चार हज़ार …
बृहस्पतिवार, 02 फ़रवरी 2012 19:19

शीराज़-3

शीराज़ नगर का ऐतिहासिक अतीत हख़ामनशी काल से संबंधित है किन्तु इसकी ख्याति और इसकी विश्वसनीयता इस्लामी काल से संबंधित है। इस काल में शीराज़ विस्तृत हुआ यहां तक कि …