यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
मनोरम कहानियां
बुधवार, 02 मार्च 2016 13:33

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-7

हमने बताया था कि एक रात हारून रशीद ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमक्की और मसरूर शमशीरज़न के साथ भेस बदलकर शहर में निकलने का इरादा किया ताकि लोगों के हालात …
सोमवार, 29 फ़रवरी 2016 17:10

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-6

हमने पिछले कार्यक्रम में बताया कि हारून रशीद ने एक दिन  अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी के साथ भेस बदल कर नगर घूमने का निर्णय किया ताकि लोगों की स्थिति से …
शनिवार, 13 फ़रवरी 2016 14:18

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-5

हमने कहा था कि एक रात को हारून रशीद ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी के साथ भेस बदलकर शहर घुमने का फैसला किया। उनके साथ तलवार चलाने में दक्ष मसरूर …
शनिवार, 06 फ़रवरी 2016 16:02

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-4

पुराने समय की बात है, एक रात हारून रशीद ने अपने मंत्री जाफ़र बरमकी और प्रसिद्ध तलवार चलाने वाले मसरूर के साथ वेष बदल कर शहर जाने का फ़ैसला किया …
मंगलवार, 02 फ़रवरी 2016 17:24

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-3

हमने बताया था कि एक रात हारून रशीद ने अपने मंत्री जाफ़र बरमक्की और मसरूर शमशीरज़न के साथ भेस बदलकर शहर में निकलने का इरादा किया ताकि लोगों के हालात …
बुधवार, 27 जनवरी 2016 17:22

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-2

हमने बताया था कि एक रात हारून रशीद ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमक्की और मसरूर के साथ भेस बदलकर शहर में निकलने का इरादा किया ताकि लोगों के हालात से …
शनिवार, 23 जनवरी 2016 16:59

ख़लीफ़ये क़ुल्लाबी-1

एक रात को हारून रशीद ने अपने मंत्री जाफर बरमकी को बुलाया और उससे कहा जाफर आज रात मैं थका हूं और मैं महल से बाहर चलना चाहता हूं और …
बुधवार, 13 जनवरी 2016 16:37

सिन्दबाद की कहानी

फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। उसके पास प्रशिक्षित बाज़ एक बाज़ था जिसे वह बहुत चाहता था और उसे अपने से अलग नहीं करता था। सिन्दबाद …
मंगलवार, 05 जनवरी 2016 15:45

अबूसब्र और अबूक़ीर की कहानी-6

हमने आपको यह बताया था कि इस्कंदरिया शहर में एक रंगरेज़ और एक नाई रहते थे। उनका नाम अबू क़ीर और अबू सब्र था। वे आपस में दोस्त थे। वे …
अबू क़ीर रंगरेज़ और अबू सब्र नाई था। अबू क़ीर झूठा और धोखेबाज़ था लेकिन अबू सब्र ऐसा नहीं था। धंधा नहीं हो पाने के कारण दोनों ने यात्रा का …
मंगलवार, 22 दिसम्बर 2015 16:44

अबूसब्र और अबूक़ीर की कहानी-4

हमने कहा कि इस्कन्दरिया शहर में अबूक़ीर और अबू सब्र नाम के दो व्यक्ति थे और दोनों एक दूसरे के दोस्त थे। उनमें से एक रंग करने का काम करता …
मंगलवार, 15 दिसम्बर 2015 12:04

अबूसब्र और अबूक़ीर की कहानी-3

हमने कहा कि इस्कन्दरिया शहर में अबूक़ीर और अबूसब्र नाम के दो व्यक्ति थे वह दोनों दोस्त थे जिसमें से एक रंगाई का काम करने वाला और दूसरा नाई था। …
बुधवार, 09 दिसम्बर 2015 13:23

अबूसब्र और अबूक़ीर की कहानी-2

हम ने बताया कि एक रंगरेज़ था अबू क़ीर और एक नाई था अबू सब्र। दोनों आपस में दोस्त थे। अबू क़ीर झूठा और धोखेबाज़ इंसान था जबकि अबू सब्र झूठ …
मंगलवार, 01 दिसम्बर 2015 17:07

अबूसब्र और अबूक़ीर की कहानी

पुराने ज़माने में इस्कंदरिया नगर में एक नाई और एक रंगरेज़ साथ साथ रहा करते थे।  रंगरेज़ का नाम अबूक़ीर था जबकि नाई का नाम अबूसब्र था।  अबूक़ीर बहुत ही …
रविवार, 22 नवम्बर 2015 17:38

अहमद बद बियार-३

हम ने बताया कि अहमद नाम का एक लड़का अपनी मां के साथ रहता था। एक दिन उसने सोचा कि कुछ काम धाम करना चाहिए। अतः राज दरबार में जा …
रविवार, 15 नवम्बर 2015 17:09

अहमद बद बिया-२

हमने कहा था कि अहमद नाम का एक लड़का होता है जो अपनी मां के साथ रहता है। एक दिन उसने कुछ काम­­- धाम करने का फ़ैसला किया। काम की …
सोमवार, 09 नवम्बर 2015 12:43

अहमद बद बियार-१

कहा जाता है कि प्राचीन काल में एक बूढ़ी थी, जिसका एक बेटा था और उसका नाम अहमद था। बूढ़ी का काम सूत कातना था, जिससे उसकी इतनी आय होती …
बुधवार, 04 नवम्बर 2015 15:00

जवान तीग़-3

हमने कहा था कि प्राचीन समय में एक राजा था जिसके कोई संतान नहीं थी। एक भिक्षु ने उसकी आकांक्षा पूरी कर दी थी। उसने राजा को एक सेब दिया …
मंगलवार, 27 अक्तूबर 2015 16:38

जवान तीग़-2

प्राचीन समय में एक राजा था जिसके कोई बेटा नहीं था। एक भिक्षु ने उसकी मांग पूरी कर दी। भिक्षु ने उसे एक सेब दिया और कहा कि इस सेब …
बुधवार, 07 अक्तूबर 2015 15:42

जवान तीग़

कहा जाता है कि प्राचीन काल में एक राजा था, जिसके कोई संतान नहीं थी, इस कारण वह बहुत दुखी रहता था। एक दिन वह अपनी पत्नी के साथ बैठा …
Page 1 of 10