यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
बृहस्पतिवार, 07 अप्रैल 2016 09:49

सऊदी अरब का ईरान को आगामी हज व्यवस्था पर चर्चा के लिए निमंत्रण

24 सितंबर 2015 को मिना में मची भगदड़ में हताहत होने वालों के शव 24 सितंबर 2015 को मिना में मची भगदड़ में हताहत होने वालों के शव

सऊदी अरब ने इस साल हज यात्रा की व्यवस्था पर चर्चा के लिए आधिकारिक रूप से ईरान को आमंत्रित किया है।

ईरान के हज व तीर्थयात्रा विभाग के प्रमुख सईद ओहदी ने इस बात की सूचना देते हुए बुधवार को कहा कि अगर ईरानी प्रतिनिधिमंडल के लिए वीज़ा जारी हो गया तो वह 14 अप्रैल को रियाज़ में प्रस्तावित बैठक में हिस्सा लेगा।

 

सईद ओहदी ने कहा कि पिछली वाणी प्रणाली की तरह अगर दोनों पक्ष समझौते की शर्त पर सहमत हुए तो ईरानी हज यात्रियों को मक्का भेजने के विषय एक समझौते पर दस्तख़त होंगे। उन्होंने इस बात का उल्लेख करते हुए कि सऊदी प्रशासन ने ईरानी प्रतिनिधिमंडल के लिए वीज़ा जारी करने का आश्वासन दिलाया है, कहा, “पिछले वर्षों में जनवरी के मध्य में हमारी सऊदी हज मंत्रालय के साथ बैठक होती थी किन्तु इस साल की बैठक में 3 महीने का विलंब हो चुका हैं।”

 

ईरान के हज विभाग के प्रमुख ने आशा जतायी कि सऊदी प्रशासन ईरानी तीर्थयात्रियों को वीज़ा देने के संबंध में अपने विरोधाभासी दृष्टिकोण से समय रहते पीछे हट जाएगा। उन्होंने बल दिया कि इस साल की हज यात्रा में सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने की योजना और पिछले साल हताहत हुए ईरानी हजयात्रियों को हर्जाना दिलाना, प्रस्तावित बातचीत के एजेन्डा के मूल विषय हैं।

 

ज्ञात रहे पिछले साल 24 सितंबर को हज के अवसर पर मिना में ‘रमये जमरात’ नामक संस्कार को अंजाम देने के समय सऊदी प्रशासन द्वारा मिना जाने वाली सड़क को बंद कर दिए जाने से मची भगदड़ में, हज़ारों लोग मारे गए। यह हज यात्रा के इतिहास की सबसे घातक घटना थी।

असोशिएटेड प्रेस के अनुसार, 36 देशों के 2400 से ज़्यादा नागरिक इस घटना में हताहत हुए थे।

 

सऊदी अरब का दावा था कि लगभग 770 हज यात्रियों की मौत हुयी जबकि ईरान के हज व तीर्थयात्रा विभाग का कहना है कि लगभग 4700 हाजी मारे गए जिनमें 460 ईरान हाजी थे। (MAQ/N)

 

Add comment


Security code
Refresh