यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
सोमवार, 04 अप्रैल 2016 08:57

यमनी फ़ोर्सेज़ ने 42 सऊदी सैनिकों को पकड़ा

यमनी फ़ोर्सेज़ ने 42 सऊदी सैनिकों को पकड़ा
यमनी फ़ोर्सेज़ ने बैज़ा और जौफ़ प्रांतों में सऊदी अरब के 42 सैनिकों को पकड़ा जबकि मआरिब प्रांत में अनेक सऊदी सैनिक मारे गए।

यमनी सैनिकों ने अंसारुल्लाह आंदोलन के वफ़ादार स्वंयसेवी बल के जवानों के साथ मिल कर दक्षिणी प्रांत बैज़ा के रदा इलाक़े में सऊदी अरब के 31 सैनिकों को पकड़ने में सफलता हासिल की जबकि बाक़ी 11 सैनिकों को उन्होंने पश्चिमोत्तरी प्रांत जौफ़ के अल-मतमा इलाक़े में पकड़ा।

यमनी न्यूज़ एजेंसी सबा नेट के अनुसार, पकड़े गए सऊदी सैनिक, मआरबि प्रांत के केन्द्रीय-पश्चिम भाग जा रहे थे ताकि वे वहां मौजूद सऊदी सैनिकों की मदद करें।

इसी प्रकार यमनी फ़ोर्सेज़ ने मआरिब शहर में सऊदी सैनिकों पर कैट्यूशा मीज़ाईल से हमला किया जिसमें 6 सऊदी सैनिक मारे गए और 17 अन्य घायल हुए।

यमनी फ़ोर्सेज़ इस देश पर सऊदी अरब के हमले के जवाब में ये कार्यवाही कर रही हैं। सऊदी अरब ने यमन के अंसारुल्लाह आंदोलन को दबाने और इस देश के फ़रारी पूर्व राष्ट्रपति मंसूर हादी को सत्ता में लाने के लिए यमन पर मार्च 2015 में हमले शुरु किए। सऊदी अरब के हमलों में अब तक लगभग 9400 यमनी नागरिक हताहत हुए जिनमें 4000 औरतें और बच्चे हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ, यमन में संकट को राजनेतिक मार्ग से हल करने की कोशिश कर रहा है किन्तु अभी तक सफल नहीं हो पाया। दिसंबर 2015 में अंसारुल्लाह आंदोलन और पूर्व शासन के सदस्यों के बीच स्वीज़रलैंड में सघन बातचीत हुयी थी और संयुक्त राष्ट्र संघ की मध्यस्थता से संघर्ष विराम पर सहमति हुयी थी किन्तु सऊदी अरब ने इस संघर्ष विराम का मुख्य रूप से उल्लंघन किया।

यूनिसेफ़ ने गुरुवार को एक रिपोर्ट में कहा है कि यमन पर सऊदी अरब के एक वर्ष से जारी हमले में 934 मासूम बच्चे मारे गए और 1356 घायल हुए। इस तरह हर दिन अवसतन 6 बेगुनाह बच्चे सऊदी अरब के अतिक्रमण से मर रहे हैं। (MAQ/N)

Add comment


Security code
Refresh