यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
रविवार, 25 अक्तूबर 2015 17:05

मिना त्रासदी पर काम जारी रहेगा,

मिना त्रासदी पर काम जारी रहेगा,

ईरान ने मिना त्रासदी की छानबीन जारी रखने पर बल दिया है।

 

विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ़ ने मिना त्रासदी की छानबीन जारी रखने पर बल देते हुए कहा, “मुझे लगता है कि सऊदी सरकार और इस देश के हज के अधिकारियों ने मिना त्रासदी के संबंध में अपनी ज़िम्मेदारी को पूरा नहीं किया और हाजियों की जान को बचाने के लिए उचित क़दम नहीं उठाया। इसी प्रकार मरने वालों के संबंध में भी ज़रूरी काम अंजाम नहीं दिया।”

 

उन्होंने विदेश मंत्रालय के प्रोटोकॉल विभाग के उप प्रमुख अहमद फ़हीमा के अंतिम संस्कार में यह बयान दिया। अहमद फ़हीमा मिना त्रासदी में मरने वाले ईरानी हाजियों में शामिल हैं।

 

ईरानी विदेश मंत्री ने इस बात का उल्लेख किया कि विदेश मंत्रालय ने मिना त्रासदी में मरने वालों के शवों को स्वदेश लाने के लिए पूरी तनमयता से कोशिश की। उन्होंने कहा कि मिना त्रासदी के बाद हमारी पूरी कोशिश इस घटना की समीक्षा के साथ साथ इसे फिर से होने से रोकना है और इस संदर्भ में इस्लामी देशों के साथ विचार-विमर्श चल रहा है।

 

जवाद ज़रीफ़ ने लेबनान में ईरान के पूर्व राजदूत ग़ज़न्फ़र रुकनाबादी की स्थिति के बारे में कहा कि वह अभी भी लापता हैं और हम उनकी स्वदेश वापसी की कामना करते हैं। ज्ञात रहे ग़ज़न्फ़र रुकनाबादी इस साल हज के लिए सऊदी अरब गए थे और मिना त्रासदी के बाद से लापता हैं।

 

दूसरी ओर ईरान की संसद के राष्ट्रीय सुरक्षा व विदेश नीति आयोग के प्रवक्ता ने हज व ज़ियारत संस्था के अधिकारियों के साथ इस आयोग की मंगलवार को हुयी बैठक का उल्लेख करते हुए बताया कि इस बैठक में मिना त्रासदी की जांच के लिए इस्लामी देशों पर आधारित एक कमेटी के गठन पर बल दिया गया। (MAQ/N)

फ़ेसबुक पर हमें लाइक करें, क्लिक करें

Add comment


Security code
Refresh