यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
चौपाल
सोमवार, 25 अगस्त 2014 11:12

Dr Hemant Kumar

Nighahen aapki pehchan hai hamari, Muskuraahat aapki shaan hai hamari, Rakhna apne   aapko hifaazat se Qki Saanse aapki Jaan hai hamari... God bless you!
रविवार, 17 अगस्त 2014 12:56

Dr Hemant Kumar

  Makhan churakar jisne khaya, Bansi bajakar jisne nachaya, Khushi mango uske janm ki   jisne duniya ko prem sikhaya.. HAPPY JANMASHTMI!!
शनिवार, 09 अगस्त 2014 13:41

Dr Hemant Kumar

Aaya hai ek Tyohar, Jis me hota hai Bhai aur Bahan ka Pyar, Challo manayein ye khushio se iss Tyahar, Saari Duniya se Pyari Bahan ka Pyar, Challo manayein ye khushiyo …
सोमवार, 04 अगस्त 2014 15:52

Harish Chandra Shah

मित्रवर पिछले दिनों कई अखबारों ने एक प्रयोग शुरू किया। यह प्रयोग बोलचाल की भाषा को बढ़ावा देने के नाम पर किया गया। इसके अंतर्गत इन अखबारों में छपने वाली सामग्रियों में अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग सायास तरीके से बढ़ादिया गया। इस बार हिंदी समय (http://www.hindisamay.com) पर प्रस्तुत लेख इसलिए विदा करना चाहते हैं, हिंदी को हिंदी के कुछ अखबार में चर्चित चित्रकार व कथाकार प्रभु जोशी इसी प्रयोग के पीछे की साजिशीरणनीति का खुलासा कर रहे हैं। हिंदी के बहाने लिखा गया यह आलेख भाषाओं के अपनी मौत मरने और साजिशन मारे जाने के बीच के अंतर को स्पष्ट करता है और एक बड़े खतरे के प्रति हमें आगाह करने का काम करता है।   कल 31 जुलाई को भारतीय भाषाओं के अनन्य कथाकार प्रेमचंद का जन्मदिवस था। इस अवसर पर पढ़ें बनारसीदास चतुर्वेदी का संस्मरण प्रेमचंदजी के साथ दो दिन । साथ में गांधी जी के आखिरी दिनों की पड़ताल करतासूरज पालीवाल का लेख अकेले तथा करुण होते गांधी और उनके विचार तथा गांधी और टैगोर के अनन्य रिश्ते पर केंद्रित लेख गांधी और टैगोर : जीवन और विचार की दृढ़ता के ध्रुव । सिनेमा के अंतर्गत पढ़ें सत्यदेव त्रिपाठी कीमीमांसा हिंदी सिनेमा की तीसरी धारा : पाठ व प्रक्रिया । और कहानियाँ हैं चर्चित कथाकार गीताश्री की - फ्रीबर्ड, समंदर  और एक रात जिंदगी ।   कविताओं के अंतर्गत पढ़ें बुद्धिनाथ मिश्र, अशोक कुमार पांडेय, मार्तिन हरिदत्त लछमन श्रीनिवासी और होर्हे लुईस बोर्हेस की कविताएँ। और अंत में पढ़ें मोहनदास करमचंद गांधी की अमर कृति हिंद स्वराज का आठवाँ खंडहिंदुस्तान की दशा – 1  । यह सिलसिला ऐसे ही चलता रहेगा।   हमेशा की तरह आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।   सादर, सप्रेम अरुणेश नीरन संपादक, हिंदी समय
सऊदी नरेश शाह अब्दुल्लाह ने कहा कि ग़ज़्ज़ा में जो कुछ हो रहा है वह सामूहिक नरसंहार और मानवता के विरुद्ध युद्ध है। उन्होंने सामूहिक नरसंहार का निशाना बनने वाले …
दो स्पष्ट संदेश जो संभावित रूप से बर्बर इस्राईल के ग़ज़्ज़ा पट्टी पर हमलों की रोकथाम का प्रारूप ही स्पष्ट नहीं करते बल्कि इस से मध्य पूर्व में शक्ति व …
रविवार, 27 जुलाई 2014 15:43

Dr Hemant Kumar

दहेज हत्या, कन्या-भ्रूण हत्या, एसिड अटैक, दष्कर्म जैसी घटनाएं हमारे समाज को लज्जित करती है। आज लोगोँ मेँ अब न तो समाज का डर है और न ही कानून का। …
सोमवार, 14 जुलाई 2014 14:42

हिंदी समय टीम

मित्रवर रोहिणी अग्रवाल हिंदी की विशिष्ट आलोचक हैं। इस मामले में कि वे किसी रचना के सामान्य पाठ से इतर उसका एक विशिष्ट पाठ भी अन्वेषित करती हैं। जाहिर है कि यह विशिष्ट पाठ कहीं बाहर से नहीं आता, यह रचना केभीतर से ही निकलता है। ऐसा इसलिए हो पाता है क्योंकि वह रचनाओं को एक बड़े परिप्रेक्ष्य में रखकर देखती हैं और आलोच्य कृतियों के बहाने समय का भी एक वृहत्तर संदर्भ लेकर चलती हैं। हिंदीसमय(http://www.hindisamay.com) पर इस बार प्रस्तुत आलोचना समकालीन हिंदी उपन्यास और पारिस्थितिकीय संकट उनके आलोचना कर्म की एक सुंदर बानगी पेश करती है। साथ में पढ़ें युवा आलोचक राजीव रंजनगिरि का शोध-निबंध सामंती जमाने में भक्ति-आंदोलन : अवसान और अर्थवत्ता।   कहानियाँ इस बार पाँच हैं। शिवपूजन सहाय की कहानी का प्लॉट, राजकमल चौधरी की जलते हुए मकान में कुछ लोग , मधु कांकरिया की उसे बुद्ध ने काटा, राकेश मिश्र की बाकी धुआँ रहने दिया और गाब्रिएल गार्सिया मार्केज  कीनीले कुत्ते की आँखें । दुनिया भर में बेहद लोकप्रिय कथाकार मार्केज पिछले दिनों हमारे बीच नहीं रहे। चर्चित कवि-कथाकार प्रियदर्शन अपने स्मरण-लेख यथार्थ का जादू चला गया  में उन्हें लगाव के साथ याद कर रहे हैं। साथमें पढ़ें चर्चित कथाकार सुधाकर अदीब का रोचक उपन्यास अथ मूषक उवाच।   कविताएँ हैं प्रकाश उदय, अभिमन्यु अनत, ताद्यूश रोजेविच और चंद्रधर शर्मा गुलेरी की। इनमें से हर एक की कविता का एक बेहद निजी रंग है जो आपको अपना सा लगेगा। गुलेरी जी की कविताएँ हमारी विशिष्ट प्रस्तुति हैं।और अंत में पढ़ें मोहनदास करमचंद गांधी की अमर कृति हिंद स्वराज का पाँचवाँ खंड : इंग्लैंड की हालत। यह सिलसिला ऐसे ही चलता रहेगा।   हमेशा की तरह आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।   सादर, हिंदी समय टीम  
सोमवार, 14 जुलाई 2014 14:35

आनंद मोहन बैन

  जर्मनी ने जीता वर्ल्ड कप 2014              ब्राजील !  मौजूदा दौर के दुनिया के सबसे सशक्त फुटबॉल टीम समझे जाने वाले जर्मनी ने अर्जेंटीना …
बुधवार, 02 जुलाई 2014 09:53

Dr Hemant Kumar

The breeze has awakened the earth, The sun gave brightness to the earth, Birds gave melodious music to the earth, Then its the time to wish my sweet friends... Good …
शनिवार, 28 जून 2014 12:41

Dr Hemant Kumar

कविता- मैँ नन्ही सी कली: बाबुल तेरे आंगन की थी मैँ नन्ही सी कली, बाइस बसंत आंगन की तेरे छांव मेँ पली, दीदी से भी मुझको सानिध्य वो मिला, भाई …
शनिवार, 28 जून 2014 12:34

Dr Hemant Kumar

  Bheege mausam ki khushboo hawao me ho, aapki khushi ka ehsaas in fizao me ho, rahe sada aapke hoton pe muskurahat, Bas itni taaqat humari duao me ho.... God …
इराक़ में आतंकवादी गुट आईएसआईएल या दाइश ने पिछले एक सप्ताह के दौरान कई अमानवीय अपराध किए हैं। इस समूह के आतंकवादी अब तक अंबार और फल्लूजा जैसे क्षेत्रों में …
रविवार, 22 जून 2014 14:28

Dr Hemant Kumar

Relationship is like a Violin, Music may stop now and then, But strings are attached forever. So if you be in touch or not, You are always remembered. Happy Music …
रविवार, 22 जून 2014 13:59

Vidianand Ramdoyal

आदरणीय  भाई जी  सादर नमस्ते ।  मुझे रेडियो ईरान  हिंदी सेवा के सभी  कार्यक्रम  काफी पसंद हैं ॥ मुझे आपकी  साइट   बहुत ही सुन्दर लगा  हैं