यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
सोमवार, 06 जुलाई 2015 15:14

KRIPARAM KAGA

KRIPARAM KAGA

नमस्कार

मै रेडियो तेहरान की हिन्दी सेवा का बहुत पुराना श्रोता मित्र हूँ।

 

पर मुझे बहुत खेद है की पिछले काफी समय से मै व्यस्त रहां आपको पत्र

नही लिख पाया और आपके रेडियो कार्यक्रम भी नही सुन पाया।

 

मै अब आपके कार्यक्रम इटरनेट पर सुनता रहुंगा।

 

वैसे मै आपसे फेसबुक पर भी मिलता रहता हूँ।

 

आपको रमजान के पवित्र महिने पर हार्दिक बधाई ईश्वर आपके रोजे दुँआएँ स्वीकार करे।

 फेसबुक पर हमें लाइक करें, क्लिक करें 

Add comment


Security code
Refresh