यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
मंगलवार, 05 जनवरी 2016 12:28

चुनावों में बढ़ चढ़कर भाग ले जनता, वरिष्ठ नेता

चुनावों में बढ़ चढ़कर भाग ले जनता, वरिष्ठ नेता

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़्मा ख़ामेनई ने संसद तथा विशेषज्ञ परिषद के चुनावों में जनता की भरपूर भागीदारी पर ज़ोर दिया है।

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने सोमवार की सुबह पूरे देश के जुमे की नमाज़ पढ़ाने वाले इमामों से मुलाक़ात में संसद तथा विशेषज्ञ परिषद के भावी चुनावों का उल्लेख करते हुए कहा कि आंतरिक आयाम से चुनाव, स्वाधीनता और राष्ट्रीय पहिचान का आभास कराते हैं जबकि क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आयामों की दृष्टि से चुनावों के कारण देश और शासन व्यवस्था की प्रतिष्ठा बढ़ती है।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने आगामी चुनावों के संबंध में अमरीकी सरकार के स्वार्थों का हवाला देते हुए कहा कि अमरीकी सरकार ईरान की जनता को क्रान्ति के लक्ष्यों से दूर करके वाशिंग्टन के उद्देश्यों के क़रीब करना चाहती है, लेकिन ईरान की महान जनता चुनाव तथा दूसरे सभी मामलों में शत्रु की इच्छा के विपरीत क़दम उठाती है।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने कहा कि चुनाव के क़ानूनी नतीजों को स्वीकार करना जनता के अधिकारों का सम्मान है, जब क़ानूनी केन्द्र चुनावों के परिणामों की घोषणा और पुष्टि कर दें तो फिर इन परिणामों का विरोध करना जनता के अधिकारों का हनन है।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने आंतरिक स्तर पर लोगों को उकसाने, प्रचारिक व राजनैतिक हमले करने तथा नैतिकता से जुड़ी चीज़ों को जाल के रूप में प्रयोग करने जैसी अनेक चालों का उल्लेख करते हुए कहा कि सबको चाहिए कि शत्रु की घुसपैठ की ओर से सतर्क रहें।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने वर्ष 2009 के राष्ट्रपति चुनावों में चार करोड़ मतदाताओं की शानदार भागीदारी का उल्लेख करते हुए कहा कि वर्ष 2009 में कुछ लोगों ने अपनी नकारात्मक बातों से ईरान को बहुत नुक़सान पहुंचाया।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने क्षेत्र में इस समय छायी असाधारण परिस्थितियों का हवाला देते हुए कहा कि इस्लामी क्रान्ति और ईरानी जनता के दुशमनों का विशाल मोर्चा अपने षड्यंत्रों का लगातार जाल बिछा रहा है क्योंकि विभिन्न क्षेत्रों में वास्तविक इस्लाम के प्रचार से उन्हें अपने हित ख़तरे में पड़ते दिख रहे हैं।

 

इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस्लामी विचार फूल की महक और मंद पवन की भांति फैल चुके हैं और उनसे विभिन्न क्षेत्रों में बहुत शक्तिशाली और उपयोगी हस्तियों को प्रशिक्षण मिला है अतः इस्लाम के दुशमन इस सच्चाई को कुचलने के लिए इस्लामी गणतंत्र ईरान के विरुद्ध प्रचारिक हमले कर रहे हैं। (AA)

 

 फ़ेसबुक पर हमें लाइक करें, क्लिक करें

 

 

 

 

 

Add comment


Security code
Refresh