यह वेबसाइट बंद हो गई है। हमारी नई वेबसाइट हैः Parstoday Hindi
शनिवार, 17 अक्तूबर 2015 20:30

ईरान ने परमाणु कार्यक्रम, शांतिपूर्ण साबित कर दिया, ज़रीफ़

ईरान ने परमाणु कार्यक्रम, शांतिपूर्ण साबित कर दिया, ज़रीफ़

इस्लामी गणतंत्र ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने कहा कि ईरान ने दुनिया को दिखा दिया कि उसका परमाणु कार्यक्रम नागरिक लक्ष्यों के लिए है तथा तेहरान के विरुद्ध आरोप निराधार और उस पर डाला जाने वाला दबाव अन्यायपूर्ण है।

 

विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने शनिवार को तेहरान में म्युनिख़ सुरक्षा सम्मेलन की तैयारी से संबंधित बैठक में परमाणु गतिविधियों को लेकर पिछले कुछ साल के दौरान ईरान पर डाले जाने वाले दबाव की ओर इशारा करते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में ईरान के ख़िलाफ़ प्रतिबंध कड़े कर दिए गए यहां तक कि ईरान को धमकियां भी दी गईं किंतु इन चीज़ों से कोई परिणाम नहीं निकला।

 

विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने कहा कि क्षेत्र के देशों को इस बिंदु पर ध्यान देना चाहिए कि चरमपंथ और आतंकवाद सभी देशों के लिए ख़तरनाक है, उन्हें यह समझना चाहिए कि दाइश किसी के लिए भी पूंजी नहीं बन सकता। जवाद ज़रीफ़ ने यह सवाल उठाया कि क्या दाइश, सद्दाम या अलक़ायदा को अस्तित्व में लाने में ईरान की भूमिका थी या यह देश ख़ुद इनकी भेंट चढ़ा है? उन्होंने कहा कि यदि ईरान के लोग अतीत को देखना चाहें तो उनके पास कहने के लिए बहुत कुछ होगा।

 

विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने कहा कि सैनिक सफलताओं के कुछ कुपरिणाम भी होते हैं अतः सीरिया में राजनैतिक प्रयास करने और राजनैतिक सफलता प्राप्त करने की ज़रूरत है क्योंकि सीरिया जनता को पसंद आने वाला राजनैतिक तरीक़ा खोजना चाहिए।

 

विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने क्षेत्र में बढ़ती अशांति और यूरोप की ओर बढ़ने वाली शरणार्थियों की लहर का हवाला देते हुए कहा कि यूरोप को शरणार्थियों की बड़ी संख्या का सामना है इस लिए भी सीरिया में युद्ध रुकना ज़रूरी है ताकि सब लोग अपने घरों को लौट सकें।

 

उधर जर्मन विदेश मंत्री ने क्षेत्र की सुरक्षा में इस्लामी गणतंत्र ईरान की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। म्युनिख़ सुरक्षा सम्मेलन की तैयारी से संबंधित बैठक में जर्मन विदेश मंत्री फ़्रैंक वॉल्टर स्टेनमायर ने कहा कि मध्यपूर्व में फैली अशांति पिछले दशक के दौरान अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के सैनिक हस्तक्षेप का परिणाम है। उन्होंने कहा कि अतीत की घटनाओं से पाठ लेना चाहिए।

 

जर्मन विदेश मंत्री का कहना था कि सीरिया में जारी लड़ाई गवां दिए जाने वाले अवसरों का परिणाम है और अब इस समस्या का समाधान खोजना चाहिए।(Ah)

 फेसबुक पर हमें लाइक करें, क्लिक करें

 

 

Add comment


Security code
Refresh